+91-9977847327,9406626131
Posted on : 17 Apr 2020
एक समय की बात है एक बार वर्षा की संभावना को देखकर गुरु पत्नी शुक्षुषा जी ने कास्ट लाने के लिए किन्हीं दूसरे छात्रों को आदेश दिया की है पुत्र कर्ण कहीं से काष्ठ ले आओ संध्या होने वाली है कैसे बनती लकड़ी लाई जाए यह विचार का कुछ डरे हुए सब छात्रों में मैं से इन दोनों ने भी उस बात को एक दूसरे के द्वारा सुन लिया डरे हुए अन्य विद्यार्थियों को देखते हुए भगवान श्री कृष्ण ने गुरु पत्नी से स्वयं वन में जाने की आज्ञा मांगी भगवान ने कहा माता अन्य सभी छात्र वन में जाने से डरे हुए हैं तो मैं और मेरा सखा सुदामा वन में जाकर लकड़िया ले आते हैं उस समय महर्षि सांदीपनि जी आश्रम में उपस्थित नहीं थे यह जानकर उन्हें जाने की आज्ञा देने में असमर्थता प्रकट की लेकिन प्रभु कहां मानने वाले थे उन्होंने अपने हट से गुरु पत्नी को मना लिया और 1 में जाने की आज्ञा प्राप्त कर ली गुरु पत्नी ने दोनों के लिए दो मुट्ठी चना रख देता की भूख लगे तो खा लेना भगवान श्री कृष्ण के पास रखने का कुछ सामान नहीं था तो दोनों चने की पोटली को उन्होंने सुदामा को रखने को दे दी और कुल्हाड़ी लेकर वन की ओर प्रस्थान किया चलते चलते दोनों घनी मन में पहुंच गए जंगल में पहुंचते घनघोर वर्षा होने लगी वर्षा होने के बावजूद दोनों ने सूखी सूखी लकड़ियां चुन ली और घटघर बनाकर दोनों ने अपनी पीठ पर एक के गठन किया लेकिन रात्रि हो जाने के बाद कारण वह आगे की ओर यात्रा ना कर सके और वही एक पेड़ के नीचे दोनों लकड़ी के गठन रख दिए और विश्राम करने लगे बारिश अत्यधिक होने के कारण वे दोनों वृक्ष पर अलग-अलग झड़ गए ताकि वर्षा से उनकी रक्षा हो सके घनघोर वर्षा जो थोड़ी कम पड़े उसके बाद सुदामा जी को भूख लगने लगी तो उन्होंने पत्नी द्वारा दिए हुए चने याद आए फिर उन्होंने अपने हिस्से की पोटली निकाली और उसे खाने लगे खाने के कारण उनकी आवाज में कृष्ण सुदामा से पूछा सुदामा यह तुम्हारे मुंह से कैसी अजीब प्रकार की आवाज आ रही है तुम कुछ खा रहे हो क्या तो सुदामा जी वहां पर झूठ बोल गए नहीं खाना मुझे बहुत ठंड लग रही हो ठंड के कारण मेरे दांत क्रिकेटर रहे कृष्ण भगवान ने अपनी दिव्य दृष्टि से देख लिया था कि वह झूठ बोल रहा है और उसने खुद के हिस्से की बॉडी के चने की शासन मेरे हिस्से की चने की फोटो लिखा गया है भगवान से मीठा बोलने की सजा सुदामा ने घोर दरिद्र पुजारी फिर भगवान द्वारिकाधीश से द्वारका में भेंट हुई तब भगवत कृपा से 2 लोकों के स्वामी बने आज भी अवंतिका पुरी से करीब 22 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम नारायणा स्थित है जहां पर भगवान श्री कृष्ण सुदामा जी ने रात्रि विश्राम किया था पर आज भी बड़ा सुंदरी मंदिर बनाया हुआ है श्री कृष्ण सुदामा जी की मनोहारी प्रतिमा स्थापित भगवान श्री कृष्ण के लकड़ी के यहां पर छूट गई थी वर्तमान में वृक्ष बन गए आज भी विद्यमान है या गांव श्री कृष्ण सुदामा धाम नारायणा के नाम से प्रसिद्ध है

Related posts

संपर्क करे